Jinke Liye Song Lyrics in Hindi & English – Neha Kakkar | Jaani

Jinke Liye Lyrics in english

Jinke Liye Song Lyrics in Hindi & English – Neha Kakkar | Jaani

Jinke Liye Song Lyrics by Neha Kakkar is the latest New Hindi song from the album “Jaani Ve “and sung by Neha Kakkar featuring Jaani. Jinke Liye song music given by B Praak.The most heart touching line are “Jinke Liye hum rote gain, Ho jinke liye hum rote gain, Woh Kisi aur ki baahon main sote hai “.

Jinke Liye Lyrics in hindi

Jinke Liye Song Lyrics in Hindi

तेरे लिए मेरी इबादतें वही है
तेरे लिए मेरी इबादतें वही है
तू शरम कर तेरी आदतें वही है
तू शरम कर तेरी आदतें वही है
जिनके लिए हम रोते हैं

हो जिनके लिए हम रोते हैं
वो किसी और की बाहों में सोते हैं
जिनके लिए हम रोते हैं
वो किसी और की बाहों में सोते हैं

हम गलियों में भटकते फिरते हैं
वो समंदर किनारों पे होते हैं
जिनके लिए हम रोते हैं
वो किसी और की बाहों में सोते हैं

पागल हो जाओगे आना कभी ना
गलियों में उनकी जाना कभी ना
जाना कभी ना

हम जिंदा गए करीब उनके
अब देखो मरे हुए लौटे हैं
जिनके लिए हम रोते हैं
वो किसी और की बाहों में सोते हैं

रा रा रारा..

हाथों से खेलते होंगे या पैरों से
फुर्सत कहाँ अब उनको है गैरों से

हाथों से खेलते होंगे या पैरों से
फुर्सत कहाँ अब उनको है गैरों से

उनकी मोहब्बतें हर जगह
वो जो कहते थे हम इकलौते हैं
जिनके लिए हम रोते हैं
हिन्दी ट्रैक्स डॉट इन
वो किसी और की बाहों में सोते हैं

कभी यहाँ बात करते हो
कभी वहाँ बात करते हो
आप बड़े लोग हो साहब
हमसे कहाँ बात करते हो

आज उस शख्स का नाम बताएँगे
जानी था जानी मिले जिस कायर से
गलती थी छोटी मोहब्बत करी जो
गलती बड़ी थी की कर बैठे शायर से

आग का दरिया जफां उनकी
हर दिन लगाने गोते हैं

जिनके लिए हम रोते हैं
किसी और की बाहों में सोते हैं
जिनके लिए हम रोते हैं
किसी और की बाहों में सोते हैं

आ आ आ..

हो जिनके लिए हम रोते हैं
किसी और की बाहों में सोते हैं
जिनके लिए हम रोते हैं
किसी और की बाहों में सोते हैं

Jinke Liye Song Lyrics in English

Tere liye meri ibaadatein wohi hain
Tere liye meri ibaadatein wohi hain
Tu sharam kar teri aadatein wohi hain
Tu sharam kar teri aadatein wohi hain

Jinke liye hum rote hain
Ho jinke liye hum rote hain
Woh kisi aur ki baahon mein sote hain

Jinke liye hum rote hain
Woh kisi aur ki baahon mein sote hain
Hum galiyon mein bhatakte phirte hain
Woh samandar kinaaron pe hote hain

Jinke liye hum rote hain
Woh kisi aur ki baahon mein sote hain

Paagal ho jaoge aana kabhi na
Galiyon mein unki jaana kabhi na
Jaana kabhi na
Hum zinda gaye kareeb unke
Ab dekho mare huye laute hain

Jinke liye hum rote hain
Woh kisi aur ki baahon mein sote hain

Hathon se khelte honge ya pairon se
Fursat kahan ab unko hai ghairon se
Hathon se khelte honge ya pairon se
Fursat kahan ab unko hai ghairon se
Unki mohabbatein har jagah
Woh jo kehte the hum iklaute hain

Jinke liye hum rote hain
Woh kisi aur ki baahon mein sote hain

Kabhi yahan baat karte ho
Kabhi wahan baat karte ho
Aap bade log ho saahab
Humse kahan baat karte ho

Aaj us shakhs ka naam batayenge
Jaani tha Jaani mile jis kaayar se
Ghalti thi chhoti mohabbat kari jo
Ghalti badi thi ke kar baithe shayar se

Aag ka dariya zafa unki
Har din lagane gote hain

Jinke liye hum rote hain
Kisi aur ki baahon mein sote hain
Jinke liye hum rote hain
Kisi aur ki baahon mein sote hain

Ho jinke liye hum rote hain
Kisi aur ki baahon mein sote hain
Jinke liye hum rote hain
Kisi aur ki baahon mein sote hain

About Hanni Singh

Hanni Singh – He is the co-founder of TechnoFrnd.com. He is the brain behind all the SEO and social media traffic generation on this site. His main passions are reading books, cricket and of course blogging. He is currently pursuing BA course from IGNOU, Chandigarh.

View all posts by Hanni Singh →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *